Saturday, 29 November 2014

आईएएस मुख्य (लिखित) परीक्षा 2014: सामान्य अध्ययन द्वितीय प्रश्न-पत्र: मॉडल प्रश्नपत्र


ईएएस मुख्य (लिखित) परीक्षा का सामान्य अध्ययन द्वितीय प्रश्न-पत्र शासन, संविधान, राजनीति, सामाजिक न्याय और अंतरराष्ट्रीय संबंधों से संबंधित है. आईएएस मुख्य (लिखित) परीक्षा सामान्य अध्ययन द्वितीय प्रश्न-पत्र के लिए पाठ्यक्रम व्यापक और विस्तृत है. उम्मीदवारों को सामान्य अध्ययन द्वितीय प्रश्न-पत्र के लिए संघ लोक सेवा आयोग द्वारा अधिसूचित पाठ्यक्रम को आधार बनाकर ही प्रयत्न करना चाहिए. आईएएस मुख्य परीक्षा 2013 में पूछे जाने वाले प्रश्न प्रत्यक्ष लेकिन विश्लेषणात्मक थे. इसलिए छात्रों में इस विषय पर विश्लेषणात्मक समझ होना आवश्यक है.
महत्वपूर्ण प्रश्न 
1. भारत में संघीय प्रणाली का विकास भारत अधिनियम 1935 की सरकार में निहित है. इस वाक्य की आलोचनात्मक व्याख्या कीजिए.
2. राज्यपाल की स्थिति राजनीतिक रूप से सेवानिवृत्त लोगों के लिए एक निवास स्थान बन गयी है. भारतीय राजनीति में हाल के घटनाक्रम के साथ इस पर चर्चा कीजिए?
3. शक्ति संतुलन के राजनीतिक सिद्धांत पर आलोचनात्मक चर्चा कीजिए, और भारतीय अनुभव का उदाहरण देते हुए अपने उत्तर व्याख्या कीजिए.
4. भारत में लिंग अधिकारों से संबंधित कानूनों में प्रमुख संशोधन कौन से हैं?
5. कैसे सर्वोच्च न्यायालय विधायिका पर नजर रखकर संविधान के मूल ढांचे की रक्षा कर रहा है? क्या इसकी व्याख्या न्यायपालिका के विधायिका पर अतिक्रमण के रूप में की जा सकती है?
6. अनुच्छेद 356 के प्रयोग मे गिरावट आई है, आलोचनात्मक रूप से कारणों की जांच कीजिए.
7. भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका के संसद की अध्यक्ष की भूमिका की तुलना करें?
8. भारतीय संसदीय प्रणाली मे कई बदलाव आये हैं जो कि ब्रिटिश संसदीय प्रणाली से अलग हैं. चर्चा कीजिए?
9. निजीकरण द्वारा शिक्षा और स्वास्थ्य मे लाये गए परिवर्तन पर चर्चा कीजिए. क्या आपको लगता है निजीकरण अच्छी शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं को उपलब्ध कराने में योगदान देगा?
10. सरकार समाज के कमजोर वर्ग के सामाजिक और आर्थिक विकास के लिए कई योजनाएं बनाती है. जब ये कार्यान्वयन के लिए आती हैं. यह योजनाएं विफल हो जाती हैं. ई-गवर्नेंस, जमीनी स्तर पर कुशलता से इस तरह की सेवाओं को प्रभावी बनाने में कैसे मदद कर सकता है?
11. समाज के दलित वर्ग के कल्याण को बढ़ावा देने में गैर-सरकारी संगठनों और स्वयं सहायता समूह की भूमिका पर चर्चा करें.
12. ‘संयुक्त राष्ट्र के शांति अभियानों और भारत के लिए चुनौतियों’ पर एक निबंध लिखें.
13. भारत की ‘पूर्व की ओर देखो नीति’ में विदेशों में बसे भारतीयों की भूमिका पर आलोचनात्मक रूप से चर्चा करें.
14. निम्नलिखित पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखें. 
1. पाकिस्तान में कट्टरपंथी सक्रियतावाद. 
2. रोहिंग्यास.
15. दक्षिण चीन सागर विवाद, दक्षिण-पूर्व एशिया की सुरक्षा को कैसे प्रभावित करेगा? समझाइये.
16. पाकिस्तान की राजनीति में अल्पसंख्यकों की क्या भूमिका है?
17. भूटान और मालदीव में प्रजातंत्रीय प्रक्रिया का मूल्यांकन करें.
18. भारतीय और इसराइल के संबंधों पर हाल के घटनाक्रम पर चर्चा कीजिए. कैसे यह घटनाएं भारतीय विदेश नीति को प्रभावित कर रही हैं?
19. अंतरराष्ट्रीय संबंधों में संप्रभुता की अवधारणा को इसकी उत्पत्ति और विकास के सन्दर्भ में रेखांकित करते हुए परिभाषित कीजिए जो कि हाल के वर्षों में आया है.
20. चीन और भारत दोनों अंतरराष्ट्रीय क्षेत्र में प्रमुख खिलाड़ी के रूप में उभरे हैं. फिर भी क्यों दोनों देशों के अंतरराष्ट्रीय मुद्दों के प्रति अलग अलग दृष्टिकोण है?
21. भारत और मेक्सिको स्वाभाविक सहयोगी हैं. अगर आप सहमत या असहमत हैं तो कारणों की व्याख्या कीजिए.
22. भारत और जापान के संबंध, दक्षिण एशियाई राजनीति में एक महान स्थिर बिंदु के रूप में अपनी भूमिका निभा सकता हैं. विवेचना कीजिए.
23. प्रधानमंत्री कार्यालय के प्रभुत्व के कारण मंत्रिमंडल सचिवालय अपनी चमक खो रही है. आलोचनात्मक व्याख्या कीजिए.
24. सामाजिक न्याय की अवधारणा को समझाइए. सामाजिक न्याय के लिए प्रासंगिक भारत संविधान में निहित प्रावधानों का उल्लेख कीजिए.
25. भारत में वृद्ध आयु वर्ग के व्यक्तियों के लिए शुरू योजनाओं और सेवाओं की प्रासंगिक उदाहरण के साथ चर्चा कीजिए.

7 comments: